On Page SEO techniques in Hindi? 12 Best Tips Improve SEO

On Page SEO techniques in Hindi

On Page SEO क्या आपके बहुत सारे पोस्ट पब्लिश करने के बाद भी ब्लॉग पर ट्रैफिक नही आ रहा है इसका मतलब है की आपको ब्लॉग के पोस्ट सही ढंग से Optimize करने  की ज़रूरत है| आज की पोस्ट में हम On Page SEO techniques क्या है इन हिंदी (On Page SEO techniques) के बारे मे जानेंगे

अगर आपकी Optimization strong है तो फिर आप इसी के ज़रिए ही पोस्ट को first page पर आसानी रैंक करा सकते हैं| आज हम जानेंगे की On Page SEO techniques और पोस्ट के लिए Optimization कैसे करते हैं|

Optimization process तो हम बाद मे जानेंगे लेकिन इससे पहले तो हमे ये समझना होगा की On Page SEO क्या होता है (On Page SEO)

On Page SEO क्या है?

On Page SEO techniques एक ऐसा तकनीक है जिसमे ब्लॉग के पोस्ट को google में रैंक कराने के लिए सर्च इंजन के लिए optimize किया जाता है जिससे हम वेबसाइट के पोस्ट को google में रैंक कराने में सक्षम हो सकते हैं|

हर रोज़ google कई update होता रहता है लेकिन वो छोटे छोटे होते हैं लेकिन साल में में एक दो बड़े update करता है जिसे core update कहा जाता है. अगर आपका content बहुत अच्छे से optimize किया हुआ है तो कोई update आपके ब्लॉग को प्रभावित नहीं कर सकेगा|

इसके पहले हमने जाना था की seo kya hai और ये ब्लॉग के लिए क्यू ज़रूरी होता है साथ ही ये भी जाना था की search engine optimization करने के 2 तरीके होते हैं पहला on page seo techniques और दूसरा होता है off page seo techniques.

इस से पोस्ट मे कैसे perfect optimize कर के कैसे पोस्ट को search friendly बनाते है साथ ही ये भी जाँएंगे की कैसे आसानी से पोस्ट को search engine रैंक करा सकते हैं|

On Page SEO की परिभाषा

अगर हम सरल भाषा मे बात करें तो वो सारे तरीके जिससे हम अपने ब्लॉग को search engine के first पेज के पहले नंबर पर रैंक करने के लिए इस्तेमाल करते हैं उसे हम SEO (search engine Optimization) कहते हैं|

पोस्ट या आर्टिकल लिखते हुए हम जिन on page seo Technics को follow करते हैं उसे On-Page SEO कहते हैं| इसमें अगर हम मास्टर बन गए तो फिर हम अपने हर पोस्ट को search engine के first पेज पर आसानी से रैंक करा सकते हैं|

इसमें हम keyword रिसर्च, पोस्ट title, permalink, meta description, Quality कंटेंट, keyword का सही जगह मे प्रयोग, image optization, Heading का सही इस्तेमाल, Internal और External linking इसके अलावा और भी कई technics का इस्तेमाल करते हैं| on page seo.

तो अगर आप search engine Optimization मे अपने आप को मास्टर बनाना चाहते हैं तो पोस्ट Optimization को सिख कर पहले आपको strong बनना होगा| जिस दिन आप इस मे माहिर बन जाएँगे आप की ब्लॉग भी search engine के पहले page मे रैंक पर आने लगेगी।

On Page SEO techniques in Hindi

On Page SEO Techniques in hindi करना क्यों जरुरी है?

हम अपने ब्लॉग को सीधा रैंक नही कराते बल्कि ब्लॉग मे जो पोस्ट लिख कर publish करते हैं उनको रैंक कराते हैं| जब हमारा कोई पोस्ट Search engine के first पेज पर पहले नंबर पर रैंक कर जाता है तो इससे पूरे ब्लॉग को फायदा होता है|

इससे सिर्फ़ ब्लॉग मे ट्रैफिक ही नही बढ़ता बल्कि domain authority और पेज authority भी बढ़ती है ये हमारे ब्लॉग से जुड़े सभी को improve करता है|

तो अगर आप optimization मे अपने आप को मास्टर बनाना चाहते हैं तो page level optimization को सिख कर पहले अपने आपको strong बनाना होगा| on page seo techniques.

जिस दिन आप इसमें इसमें माहिर बन जाएँगे आप की ब्लॉग भी से search engine के पहले rank पर आने लगेगी|

Page level optimization किया हुआ पोस्ट यानी की high quality कंटेंट पोस्ट मे पढ़ने वाले ज़्यादा समय देते है क्योक perfect page level optimization पोस्ट search engine फ्रेंड्ली होने से यूज़र फ्रेंड्ली भी बन जाता है|

जब हम अपने किसी पोस्ट को first पेज मे रैंक करने मे सफल हो जाते हैं तो उस पोस्ट से दूसरे पोस्ट को जोड़ कर भी हम दूसरे पोस्ट मे ट्रैफिक ले सकते हैं और इस तरह से bounce rate को कम करते हैं| on page seo techniques.

Bounce rate क्या होता है?

जब कोई visiter ब्लॉग मे आते ही बिना एक सेकेंड भी रुके पेज को तुरंत बंद कर दे तो इसे हम bounce rate कहते हैं। हर ब्लॉगर चाहता है की जो भी visiter आए वो ज़्यादा से ज़्यादा समय ब्लॉग मे पोस्ट को पढ़े इससे ब्लॉग की optimization और अधिक improve होती है|

अगर हम पोस्ट अच्छे से optimize कर लेते हैं तो फिर Off-Page SEO मे ज़्यादा मेहनत नही करनी पड़ती है क्योकि सिर्फ़ इसमें मज़बूत रहने से ही हम पोस्ट को पहले नंबर पर रैंक करा सकते हैं। on page seo techniques.

तो चलिए अब हम पोस्ट optimization के बारे मे जानते हैं-

On-Page SEO क्यों करते हैं?

Keyword रिसर्च करने के लिए सबसे अधिक इन टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है।

SEO के बारे सब कुछ मालूम हो लेकिन प्रैक्टिकली search engine optimization करने मे अगर हम कमज़ोर हैं तो फिर हमारे इसके ज्ञान का कोई फायदा नही है।

Title, Permalink और Meta description का आउटपुट कुछ इस तरीके से हम समझ सकते हैं और ये हमारे पोस्ट optimization को perfection बताता है।

पोस्ट लिखना शुरू करने से पहले keyword रिसर्च ज़रूर करे| Keyword रिसर्च एक बहुत ही important है जिसके चारों तरफ ही हमारा पूरा आर्टिकल आधारित होता है| on page seo techniques.

Keyword रिसर्च करने लए ज्यादातर इन टूल्स का इस्तेमाल किया जाता है –

  1. Google Keyword Planner
  2. ubersuggest
  3. Keywordtool.io

On Page SEO kaise kare?

1. Post का Title

इस मे पोस्ट title का सबसे Important रोल होता है| पोस्ट title मे कीवर्ड का सही इस्तेमाल कर के हम अपने पोस्ट को search engine के लए perfect optimize करते हैं|

इस स्क्रीनशॉट मे आप आसानी से समझ सकते हैं की हमारा आउटपुट किस तरह दिखाई देगा जब हम Post title, Permalink और Meta description को perfectly optimized कर लेंगे| on page seo techniques.

on page seo techinques

पोस्ट title कैसे लिखें और इसमे keyword का इस्तेमाल किस तरह करें की हमारा पोस्ट टाइटल search engine optimized हो जाए| इसके लिए मैं आपको कुछ tips दे रहा हू जिससे आप keyword को अपने title मे ferfect लिख सकते हो|

(a) Keyword Placement : Targeting Keyword (पोस्ट से रिलेटेड keyword, जिस keyword से आप अपने पोस्ट को रैंक कराना चाहते हैं) को अपने पोस्ट title के शुरू मे रखें “Post Title” की शुरुआत keyword से ही करने की कोशिश करे|

मैं मानता हू की हर पोस्ट का टाइटल हम कीवर्ड से शुरू नही कर सकते हैं, कभी कभी फिट भी नही होत है। लेकिन try करे की targeted keyword पोस्ट title के लास्ट मे ना हो|

(b) Use Effective Words : पोस्ट title को और भी SEO friendly बनाने के लिए इन words का इस्तेमाल करे जैसे Most, Effective, Important, Best, Top, Strategies, Surprising, Essential, Ultimate guide, Beginners guide, Complete guide इन words के इस्तेमाल से title को और attractive बना सकते हैं on page seo techniques.

(c) Use Of Numerics : title मे numbers add करे इससे लोगों को attract करना आसान होता है वो जल्दी ऐसे पोस्ट को पढ़ते हैं|

example:

10 Best Themes for blogger
7 Best SEO Plugins
5 most uses phone etc.

(d) Avoid Repetition of keyword : पोस्ट के title मे keyword सिर्फ़ एक ही बार प्रयोग करे. इसे एक से ज़्यादा बार बिल्कुल ना डाले keyword repetition negative होता है।

example: इस पोस्ट मे हमारा keyword “On-page SEO” है तो चलिए देखते हैं इसका title हम कैसे लिख सकते हैं-

“On-Page SEO क्या है और कैसे करते है” Correct Method

(e) Optimal Title Length : Title की length इस तरह लिखे की वो search रिज़ल्ट मे पूरा आए और अगर ज़्यादा long Title होगी तो वो पूरी दिखाई नही देगी. बहुत छोटा title भी SEO के acceptable नही होती है।

2. Permalink

Title की ही तरह पोस्ट के लिए Permalink भी On-Page के लिए इimportant होता है| Permalink मे भी हमे focus keyword add करना ज़रूरी होता है| इसके अलावा मैं आपको कुछ tips बता रहा हू उसे ज़रूर follow करे-

(a) Short URL : Permalink को हमे छोटा रखना चाहिए. और इसके साथ साथ ही इसमें अपना focus keyword या main keyword जरूर डालना चाहिए|

gyaniaatma.com/on-page-seo-kya-hai-aur-isse-blog-ko….. Negative

gyaniaatma.com/on-page-seo-kya-hai      Positive

(b) Delete Useless Permalink

Useless URL को delete कर के manually सर्च इंजन friendly URL को enter करे|

gyaniaatma.com/?p=101   Negative

gyaniaatma.com/on-page-seo-kya-hai   Positive

Actually जब हम title मे length की लिखते हैं तो permalink automatically “gyaniaatma.com/?p=101” इस तरह का बन जाता है। कभी भी permalink इस तरह का ना इस्तेमाल करे इसे खुद ही चेंज कर ले, जैसा यहाँ मैं आपको बता रहा हू उसी तरीके से process को follow करे –

(c) Never Use Stop Words

“a”, “the”, “on”, “and” इस तरह के words को Stop word बोला जाता है Permalink में इन words को कभी भी इस्तेमाल न करे तो ये SEO के लिए बेहतर नही है| on page seo.

3. Meta Description

कहते हैं ना first impression is the last impression यही काम हमारा Meta Description भी करता है| search engine की नज़र मे Title और Permalink के बाद जो important factor है वो Meta Description है|

Meta Description अच्छे से इस्तेमाल करना ज़रूरी है क्यूंकि इससे भी हम अपने पेज को आसानी से रैंक करा सकते हैं| हमे seo optimized Meta Description लिखना चाहिए जो हमारे रीडर्स को convince कर ले की जो information वो search कर रहे हैं इस पोस्ट मे वो उपलब्ध है| on page seo.

google के अनुसार कुछ महीने पीछे तक 320 wordss long description allowed था लेकिन अभी description की length 150-170 wprds के बीच ही होना चाहिए| अपनी पोस्ट की description मे keyword का इस्तेमाल ज़रूर करे| on page seo techniques.

4. Keywords Density Inside Content

हमे अपने कंटेंट के पहले पैराग्राफ मे ज़्यादा density मे कीवर्ड्स इस्तेमाल करने चाहिए| content के शुरूआती 100-150 वर्ड्स के अंदर मे keywords को अच्छी density मे ज़रूर include करे|

keyword रिसर्च इसीलिए किया जाता है की हमे search engine से अच्छी organic traffic मिल सके|  इसके साथ ही keywords का selection CPC को ध्यान मे रख कर ही किया जाता है| on page seo.

कीवर्ड को कंटेंट के अंदर properly इस्तेमाल करने से search engine को पता चलता है की कंटेंट किस बारे मे लिखा गया है और इस तरीके से search engine मे हमारी पोस्ट अच्छे से optimized हो जाती है|

पोस्ट के अंदर कीवर्ड की density maximum 2.5% होनी चाहिए on page seo techniques.

5. Proper Use of Heading and Sub-heading With Keywords

इस का इस्तेमाल कर के बेहतर रिजल्ट पाने के लिए हम Headings का इस्तेमाल का करते हैं. H2, H3, H4 heading के proper इस्तेमाल कर के हम अपनी optimization तकनीक को strong करते हैं| Headings का repeatation बार बार ना करे|

कभी भी H1 heading का इस्तेमाल अपने पोस्ट के अंदर ना करे क्योकि already हमारे पोस्ट का Title H1 Heading मे ही होता है। on page seo.

Heading मे अपना focus keyword भी डालें ये हमारे पोस्ट के लिए बहुत effective होता है लेकिन ये ध्यान रखे की 50% से कम headings मे ही focus keyword का इस्तेमाल करे| on page seo techniques.

Note : आपको ये भी ध्यान मे रखना है की लिमिट से ज़्यादा keyword को Heading में इस्तेमाल न करें|

6. Image Optimization

image को हम अपने visitors को attract करने के लिए इस्तेमाल करते हैं| Image मे हम अपने पोस्ट के टॉपिक बिना लिखे ही डिस्क्राइब कर सकते हैं| visitors perfectly image optimized से समझ जाते हैं की उन्हे जो इन्फर्मेशन चाहिए वो यहाँ उन्हे मिल जाएगी|

ध्यान रखने वाली बात ये है की हम image को डिज़ाइन करते वक़्त कुछ फैक्टर्स को भी follow करना ज़रूरी होता है| इन factors के इस्तेमाल से हम हमारा image 100% seo optimized और यूज़र फ्रेंड्ली बना सकते हैं| SEO फ्रेंड्ली इमेज हमारे On-page seo को बहुत स्ट्रॉंग बनाती है|

(a) Image Title: पोस्ट के अंदर इस्तेमाल होने वाले इमेज का title मे keyword का इस्तेमाल करे| इससे ये फायदा है की सर्च इंजन हमारे इमेज के title से keyword को पहचान लेता है और हमारे पोस्ट को रैंक करने मे मदद मिलती है|

Image के title मे unknown titles को ना इस्तेमाल करे बल्कि उन्हे remove कर दे on page seo techniques.

124569.jpg   Negative

on-page-seo-kya-hai.jpg   Positive

(b) ALT Tag : image title के साथ साथ alt tag लिखना भी हमारे पोस्ट को सर्च इंजन फ्रेंड्ली बनाता है| Most important इसमे अपना focus keyword ज़रूर add करे| on page seo techniques.

(c) Image Size : Image साइज़ हमारे पोस्ट optimization के लिए important factor साबित होता है| हम अपने पोस्ट मे हमेशा image का इस्तेमाल करते ही हैं| image की साइज़ कम से कम होनी चाहिए इससे ब्लॉग के पेज को लोड होने मे ज़्यादा टाइम नही लगेगा|

(d) Featured Image : अपने रीडर्स को यूज़र फ्रेंड्ली एक्सपीरियन्स देने के लए अपने पोस्ट मे featured image बनाकर डालें| Thumbnail के रूप मे जिस इमेज को हम इस्तेमाल करते हैं उसे ही featured image कहते हैं| on page seo techniques.

7. Use Outbound and Internal Links

अपने पोस्ट को और seo friendly optimize करने के लिए External और Internal links का ज़रूरत के अनुसार इस्तेमाल करे| जब हम अपने पोस्ट मे किसी दूसरे वेबसाइट का लिंक add करते हैं तो वो External लिंक और खुद के ब्लॉग पोस्ट का लिंक add करते हैं उसे Internal लिंक्स बोलते हैं|

जब हम किसी दूसरे ब्लॉग या वेबसाइट का लिंक अपनी पोस्ट मे add करते हैं तो इस तरह से हम उन्हे एक backlink देते हैं जो उनके SEO के लिए बहुत helpful साबित होती है| साथ ही हमारी खुद की भी अनुभव strong होती है| on page seo techniques.

(a) Internal Links : User engagement बढ़ाने के लिए हम internal linking का इस्तेमाल करते हैं| Internal linking से हम यूज़र को ये शो करा देते हैं की आप अगर एक फल आम की तलाश मे यहाँ आए हो तो आपको सारे fruits apple,banana, orange, etc. यहीं पर मिल जाएँगे|

इससे हम अपनी कंटेंट की क्वालिटी का पूरा इस्तेमाल कर के landing page से यूज़र को बाकी दूसरे pages मे भी भेज सकते हैं| on page seo techniques.

मान लीजिए मेरे एक पोस्ट मे traffic बहुत ज़्यादा है बाकी पोस्ट की तुलना मे तो उस पोस्ट से हम दूसरे पोस्ट का लिंक add कर के ट्रॅफिक पा सकते हैं।

लेकिन याद रहे रिलेटेड पोस्ट को internal links के रूप मे add करे| on page seo techniques.

(b) External Linking : जब हम अपनी पोस्ट मे किसी दूसरी वेबसाइट को जोड़ते हैं तो इसे external linking बोलते हैं| मान लीजिये की हमारी पोस्ट मे हम Youtube की किसी feature के बारे मे लिख रहे हैं और उसकी कुछ इन्फर्मेशन के लिए उसका लिंक हम अपने पोस्ट मे add कर सकते हैं|

ये seo friendly है इसमे कोई problems नही है. बल्कि इससे हमारी search engine की रैंकिंग बढ़ती है|

8. Detailed Content Post

आज के समय में बैकलिंक पर समय बर्बाद करने से अच्छा है की वो समय कंटेंट बनाने में लगाए क्यूंकि अगर आपका कंटेंट पूरी तरह से आपके रीडर को मदद करता है और उसे पूरी जानकारी देता है तो इससे बेहतर आपको रैंक करने में कोई और मदद नहीं कर सकता| इसका मतलब यही है की बढ़िया कंटेंट बिना बैकलिंक के भी रैंक करेगा| on page seo techniques.

Google seach रिज़ल्ट मे first पेज मे रैंक करने के लिए जितना लम्बा हो सके उतना लम्बा पोस्ट लिखें| आजकल तो बहुत से ऐसे भी ब्लॉगर हैं जिनकी पोस्ट 2000 वर्ड्स की होती हैं और साथ में उनकी कंटेंट क्वालिटी भी अच्छी होती है|

अगर आपको google के first पेज पर अच्छी रैंक पाना चाहते हैं तो आपको हर पोस्ट को 2000 words से अधिक का लिखना होगा साथ ही कंटेंट क्वालिटी भी बेहतरीन रखनी होगी|

लेकिन अगर आप उतना नही लिख सकते तो ट्राइ करे की कम से कम 1000 words ज़रूर हो इससे कम होने से first पेज मे आने के चान्स बिल्कुल कम होंगे| on page seo.

साथ ही कंटेंट की लम्बाई जितनी ज़्यादा होगी कीवर्ड्स की density आप उतनी अधिक रख सकते हैं| Density तो 2.5 % से कम ही रखना है लेकिन आपके keyword अधिक बार इस्तेमाल होंगे इससे गूगल को टॉपिक समझने मे उतनी ही आसानी होगी ये किस बारे मे है| इस तरह सर्च रिज़ल्ट मे higher रैंकिंग मिलने का चांस अधिक रहेगा|

Google चाहता है की जो भी रीडर आए उसको उस ब्लॉग से जानकारी मिले जिसने उस टॉपिक के बारे मे सबसे बढ़िया लिखा है और अपने पोस्ट में में सबसे बढ़िया तरीके से पुरा information दी है| on page seo techniques.

9. Page Loading Speed

Google किसी ब्लॉग पोस्ट को अपने सर्च रिज़ल्ट मे रैंक देने से पहले हर तरह से चेक करता है पेज की स्पीड बहुत important फैक्टर है seo friendly ब्लॉग के लिए साथ ही पोस्ट optimization के अंडर ये बहुत importan फैक्टर है|

पेज की लोडिंग स्पीड अच्छी होती है तो google boots पोस्ट को जल्दी इंडेक्स करते हैं अच्छी लोडिंग स्पीड बेहतर यूज़र एक्सपीरियंस के लिए important होता है| Slow loading होने वाले ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च रिज़ल्ट्स मे अच्छी रैंक नही देता|

आप स्पीड increase करने वाले plugins का इस्तेमाल कर सकते हैं| on page seo techniques.

Home page पर कम से कम कंटेंट्स का इस्तेमाल करें जैसे widgets, posts, links और images. Images की size optimized कर के रखे जिससे इमेज की साइज़ कम हो और फास्ट लोडिंग हो|

ब्लॉग की टेंपलेट या थीम कम से कम codes का इस्तेमाल कर के लिखी गई हो और साथ ही responsive हो और fast लोडिंग होती हो| रिसर्च मे पाया गया है की जिस ब्लॉग या वेबसाइट की लोडिंग टाइम 4-5 सेकेंड से ज्यादा होती है उसे visitors तुरंत बंद कर देते हैं और दूसरी साइट पर चले जाते हैं| on page seo.

तो अगर आपकी ब्लॉग की स्पीड कम है तो ये एक serious बात है इसे जल्दी solve करे|

10. Use Social Sharing Buttons

अगर हमारी content की क्वालिटी अच्छी है तो फिर इसे social share बटन के ज़रिए भी हमारे रीडर्स हर जगह share करेंगे| share का option ना रहने से चाहते हुए भी उसे कोई शेयर नही करेगा|

social sharing का इस्तेमाल करके हम अपने पेज views बढ़ा सकते हैं| social sites से आने वाले visitors जब हमारे पेज पर टाइम बिताते हैं तो google को एक तरह से पॉजिटिव signal मिलता है|

WordPress user बहुत ही आसानी से सोशल शेयरिंग plugins को इनस्टॉल कर के इस तरह के शेयरिंग buttons enable कर सकते हैं|

11. Use of related informative Video

आजकल लोग text content के साथ साथ media contents से ज़्यादा attract होते हैं| तो हमे चाहिए की text content मे well Optimized images aur videos भी add करे अगर आप गूगल analytics का इस्तेमाल करते हैं तो आपको मालूम होगा Bounce rate और पेज पर Time के बारे मे|

(a) Bounce rate : जब कोई visitor हमारे ब्लॉग के लैंडिंग पेज पर आकर बिना किसी दूसरे पेज पर गए वापस चला जाता है तो इसे Bounce rate बोलते हैं|

(b) Time On Page : कोई visitor हमारी ब्लॉग पर जितना देर रुकता है उसे Time on page बोलते हैं|

Video कॉंटेंट डालने करने से हम रीडर्स को कुछ देर अपने पेज पर रोक सकते हैं इससे Bounce rate घट जाता है और साथ ही Time duration भी बढ़ता है जो की हमारी search रॅंकिंग को बढ़ता है|

जो भी video अपने पोस्ट मे ऐड करे वो उसी टॉपिक का वीडियो रूपांतरण होना चाहिए जिससे यूज़र को और बेहतर एक्सपीरियेन्स हो और वो पोस्ट मे टाइम ज़्यादा बिताएंगे|

Google हर छोटी से छोटी बातों को भी नोटिस करता है और उन्हें अहमियत देता है इसीलिए seo friendly पोस्ट लिखना बहुत ज़रूरी है साथ ही visitors जितनी देर पेज पर रुकेंगे रैंकिंग उतनी अच्छी मिलेगी| on page seo techniques.

12. Regularly Update Your Old Posts

अपने द्वारा लिखे गए सभी पुराने पोस्ट को समय-समय पर अपडेट करते रहें|

जनवरी 2020 core update के अनुसार आपको समय के साथ अपने आर्टिकल के अंदर फ्रेश कंटेंट जोड़ने हैं और पुराने को अपडेट करने हैं|

बिना अच्छे optimized के पोस्ट को रैंक कराना काफी मुश्किल है यहाँ तक रैंक करना तो दूर पहले पेज पर भी हमारा पोस्ट नहीं जा सकता है on page seo techniques.

Conclusion

इसीलिए आज की इस पोस्ट को अगर आप ध्यान से पढ़ते हैं और फॉलो करते हैं तो फिर आपकी नॉलेज बढ़ जाएगी धीरे-धीरे अनुभव भी होता चला जायेगा| अगर ब्लॉगर के रूप में सफल होना चाहते हैं तो फिर इसमें माहिर बनना जरुरी है|

On page SEO कैसे करे और इसकी परिभाषा क्या है इससे जुडी कोई भी प्राब्लम हो तो कमेंट बॉक्स मे पूछ सकते हैं. इस तरीके को फॉलो कर के आप अपने हर पोस्ट को अच्छी रैंक पर ला सकते हैं| जितनी ज़्यादा पोस्ट रैंक होगी ट्रॅफिक उतनी ज़्यादा होगी|

तो फ्रेंड्स आप लोगों को ये पोस्ट On Page SEO क्या है (What is On Page SEO techniques in Hindi) कैसी लगी| अब आप समझ ही गये होंगे की on page ब्लॉग के लिए क्यू ज़रूरी है|

ब्लॉग की कामयाबी इसकी ट्रॅफिक पर ही निर्भर करती है| अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे तो इसे अपने फ्रेंड्स के साथ ज़रूर शेर करे साथ ही इस पोस्ट को social sites Facebook, Twitter, Instagram मे भी अपने दोस्तों को शेयर करे|

धन्यवाद !

Latest Post –

0 Shares

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0 Shares
Share via
Copy link